fbpx

Internet kya hai aur ye kese chalta ha

Internet kya hai या ये कैसे काम करता है या ये कैसे काम करता है ये सवाल आपके मन में आते है तो आपको इस पोस्ट को पूरा पढ़ना है ताकि आप जान सके की ये इंटरनेट काम कैसे करता है।

what is internet इंटरनेट क्या है

इंटरनेट कंप्यूटर का जुड़ा हुआ एक अंतरजाल है ताकि एक कंप्यूटर दूसरे कंप्यूटर से आपस में जुड़ पाए और भिन्न भिन्न प्रकार का डाटा शेयर कर पाए ये डाटा टेक्स्ट वीडियो ऑडियो के रूप में हो सकता है।

ये अंतरजाल पुरे विश्व के कंप्यूटर को आपस में जोड़े रकता है कंप्यूटर के इस आपसी सम्बन्ध को TCP /IP Protocol से जोड़े रखता है। इंटरनेट की मदत से आज के इस युग में एक नए प्रकार की संचार व्यवस्था स्थापित की है।

Internet
Internet

How internet works इंटरनेट कैसे काम करता है

जैसा की हमने बताया की इंटरनेट बहुत से कंप्यूटर को बनाया गया एक बहुत बड़ा अंतरजाल है जिसके लिए समुद्र में बहुत सारी वायर को विछाया गया है ताकि पुरे विश्व के कंप्यूटर को एक साथ जोड़ा जा सके

इन्हे जोड़ने के लिए जिस तार का प्रयोग किया जाता है उन्हें submerine केबल या फाइबर optics केबल कहा जाता है जो डाटा लाने और ले जाने का कम् करती है

इन्हे खास तरह के कंप्यूटर से जोड़ा जाता है जिन्हे सर्वर कंप्यूटर या डाटा सेण्टर भी कहा जा सकता है बाद में इन मुख्या कंप्यूटर को और छोटे कंप्यूटर के साथ जोड़ा जाता है इन्हे जोड़ने के लिए आपके देश के आधार पर अलग अलग ISP (Internet service provider) के साथ जोड़ा जाता है तब जा के आप तक इंटरनेट पहुँच पता है

आप इंटरनेट का प्रयोग करने के लिए जिस फ़ोन या कंप्यूटर का प्रयोग करते हैं उसे क्लाइंट कंप्यूटर कहा जाता है और इस संचार को आसानी से करने के लिए खास तरह के प्रोग्राम की जरुरत क्लाइंट और सर्वर कंप्यूटर दोनों को होती है जैसे की वेब ब्राउज़र ,apps ये क्लाइंट कंप्यूटर के प्रोग्राम है।

History of internet-इंटरनेट का इतिहास

इंटरनेट का इतिहास बहुत विस्तृत है और इसकी शुरुआत वर्ल्ड वॉर के बाद शुरू होने लग गई थी जब 1960 में सन्देश को एक जगह से दूसरी जगह को जल्दी से पहुँचाने की जरुरत सामने आयी थो धीरे धीरे इंटरनेट का विकास होना शुरू होने लग गया।

अमेरिकी डिफेन्स के दवारा ARPANET का सबसे पहला निजी नेटवर्क बना जो milarary के लिए प्रयोग हुआ यूँ कहा जाये की ये इंटरनेट को बनाने में इसकी अहम भूमिका निभाई।

इसका प्रयोग करके गोपनीय सन्देश भेजे जाते थे , इसकी मदत से US यूनिवर्सिटी को और मिलटरी नेटवर्क को जोड़ने में प्रयोग किया गया था।

Owner of internet इंटरनेट का मालिक कौंन है

ये गूगल पे सर्च किये जाने वाला बहुत प्रचलित सवाल है और ये सवाल इस लिए भी दिलचसप हो जाता है की इस इतने बड़े नेटवर्क को कौंन चलता है इसका मालिक कोण है ?

इस प्रश्न का जवाब बिलकुल सीधा नहीं होगा और इसके जबाब भिन्न भिन्न हो सकता है।

इंटरनेट को वैसे देखा जाये तो कोई भी इस्पे मालिकाना हक़ नहीं रखता और दूसरे नजरिये से देखा जाये इससे जुड़े हर व्यक्ति इसे चलता है।

जैसा की हम बता रहे थे की इंटरनेट को चलाने के लिए एक नेटवर्क की जरुरत होती है और इसे चलाने के लिए एक से जयादा लोग इसके किये ज़ीमेबार होते हैं और उसमे ISP की सबसे प्रमुख भूमिका होती है।

वो घर घर तक इंटरनेट पहुंचता है इसके बाद सर्वर कंप्यूटर और डाटा सेण्टर की प्रमुख भूमिका रकता है इससमे उन लोगो की भूमिका भी सामने आती है जो इसमें प्रयोग होने वाले भिन्न भिन्न उपकरण बनाने बाले भी शामिल है।

इसके इलावा इस पुरे सिस्टम को चलने के लिए कुछ खास प्रोग्राम की जरुरत भी होती है तो वो लोग भी इसमें अपना सहयोग देते हैं।

इंटरनेट को वैसे देखा जाये की तो कोई भी देश की सरकार के नियंत्रण में नहीं है और दूसरे तोर पे देखा जाये तो ये अप्रत्यक्ष रूप से नियंरण में भी है साथ ही आपके ISP भी आपका इंटरनेट बंद कर सकते हैं।

तो इस तरह से इंटरनेट का कोई मालिक नहीं है या ये भी कहे सकते हैं की इससे सभ मालिक हैं।

Inventor of internet

इसकी शुरुआत 1957 में COLD WAR के समय, में हुई उस समये अमेरिका ने Advanced Research Projects Agency (ARPA) की स्थापना की जिसकी मदत से उनका उद्देश्य था एक ऐसी Technology को बनाना था, जिससे की एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर से जोड़ा जा सके.

सन 1969 (1990 )में ARPA ने ARPANET की स्थापना की. जिस से TCP/IP protocol क। मदत से पहेली बार प्रयोग करके किसी कंप्यूटर को दूसरे Computer से जोड़ा जा सकता था. ये प्रोग्राम 1990 में बाद में बंद कर दिया गया था ।

Vinton Cerf और Robert Kahn ने TCP/IP protocol को सन 1970 में खोजा था , और 1972 में, Ray Tomlinson ने सबसे पहले Email Network को introduce किया.

इसके बाद धीरे धीरे इसका विस्तार होने लगा सन 1980 तक आते-आते इसे लोग इंटरनेट कहने लगे इसमें लोगो ने दुनिया के एक नए विकास की और कदम बढ़ाये।

When internet come in india

भारत में आम लोगो तक इंटरनेट की शुरुआत 15 अगस्त 1995 में हुई थी वैसे थो भारत में इंटरनेट सन 1986 में ही आ गया था परन्तु वो सिर्फ शिक्षा और शौध के किये ही था।

1995 में भारत में ERNET(Educational Research Network)की स्थापना हुई थी जिसने अमेरिका की संस्था UNDP (United Nations Development Program)के साथ मिल कर और इस तरह से इन दोनों की मदत से भारत में पहेली बार इंटरनेट आया।

1991 में सबसे पहेली लीजलाइन बिछी जो दिल्ली और मुंबई को जोड़ती थी इस लाइन की स्पीड 96 kbit /s की थी।

1995 में VSNL नाम की सरकारी कंपनी ने पहेली बार भारत में आम जनता के लिए इंटरनेट पहुंचाया जिसकी स्पीड 96 kbit /s की थी।

इंटरनेट के विशेष फायदे

इंटरनेट 21वि शतावधि का सबसे बड़ा अविष्कार है जिसने पूरी दुनिया को पूरी तरह से बदल दिया है इंटरनेट ने दूर से दूर बैठे व्यक्ति को आपस में जोड़ दिया है जिस कारन से इसने नए प्रकार के कुछ विशेष फायदे लोगो को दिए हैं परन्तु इसके साथ साथ इसके कुछ दोष पतृणाम भी सामने आये हैं तो हम आपको इसके कुछ फायदे और नुकसान दोनों बताने का प्रयास करेंगे।

  • मनोरंजन

इंटरनेट का सबसे जयादा फायदा किसी ने उठाया है वो है मनोरंजन इंटरनेट के कारन घर घर तक मनोरंजन के सभी साधन बड़ी आसानी से लोगो तक पहुँच गए साथ इसके कारन इसमें लगाने वाला खर्चा भी घट गया और बड़ी आसानी से लोगो ने मूवी टीवी शो और गाने का आनंद उठाया है।

  • सूचना का आदान प्रदान

इंटरनेट की मदत से आप अपनी जानकारी को या किसी विशेष दस्ताबेज़ को किसी को भी चंद मिंटो में भेज सकते हैं ये सब इंटरनेट की मदत से ही हो पाया है इसी की मदत से फेसबुक इंस्टा जैसे सोसियल साइट्स बन पायी हैं इसकी मदत से आपका किसी भी प्रकार का सन्देश लोगो तक कही भी और कभी भी पंहुचा सकते हैं।

  • ऑनलाइन शिक्षा

शिक्षा एक ऐसा जरुरी विषय है जिसका हर एक व्यक्ति तक पहुँचाना बेहत जरुरी है और हर व्यक्ति तक ये इंटरनेट की मदत से ये काम बड़ी आसानी से पहुंचा सकते हो इसकी मदत से आप बहुत कम खर्चे में लोगो तक शिक्षा को पहुंचा सकते हो।

  • ऑनलाइन ऑफिस

इंटरनेट का बढ़ते उपयोग से आज कल ऑफिस भी ऑनलाइन काम को बढ़ावा दे रहे हैं इसकी मुख्य बजहा है इससे उस कंपनी के कर्मचारी को बहुत सी सुविधाएं मिलती है साथ ही वो काम अपने हिसाब से बिना किसी प्रकार की परेशानी के घर बैठे ही कर सकता है इसका एक दूसरा पहलू भी है।

यदि आप या आपकी कंपनी कोई बड़ा काम कर रही है तो आपको इंटरनेट की बहुत जरुरी है इसका कारन है हर व्यक्ति की का कुछ विशेष गुण होता है और आपको किसी विशेष परिस्तिति में किसी की सलाह लेनी पड़ी तो आप इंटरनेट की मदत से किसी से भी कभी भी जुड़ सकते हैं जिससे आपका काम जल्दी और आसानी से हो जाता है l

  • ऑनलाइन शॉपिंग भुगतान

ऑनलाइन शॉपिंग आज कल लोगो की जरुरत बन गया है बिना ऑनलाइन शॉपिंग किये आज कल लोगो की शॉपिंग पूरी ही नहीं होती इसका कारन है लोगो को मिलने वाली सुविधा जिससे उनका सामान उनके घर तक पहुँच जाता है लोग इंटरनेट का लाभ उठा कर अपने महीने के बिल जैसे पानी के बिल बिजली का बिल फ़ोन का बिल आज कल अपने फ़ोन से ही ऑनलाइन भुगतानं कर देते हैं ।

  • ऑनलाइन व्यापार

आज के इस युग में यदि आप अपने व्यपार में इंटरनेट जैसी नयी तकनीक का प्रयोग नहीं करते हो तो आपका व्यापर किसी न किसी कारन से पीछे रह जायेगा क्युकी आपका वायपर आज की जरुरत को पूरा नहीं कर पायेगा।
साथ ही आज कल विद्यार्थी अपनी पढाई के साथ साथ में इंटरनेट का प्रयोग करके छोटा मोटा व्यापर भी करते है जिससे उनके खुद के खर्चो के साथ साथ आप कुछ वचत भी कर सकते हैं इन व्यापर में आप लोगो को अपनी कुछ सेवा प्रदान कर सकते हैं और पैसे कमा सकते हैं आप अपनी इसे यदि अच्छे से करे तो आप इसे अपनी मुख्य आजीविका के लिए भी प्रयोग कर सकते हैं।

  • ऑनलाइन नौकरी की जानकारी व आवेदन

आज कल सरकारी नौकरी हो चाहे नौकरी हो इसकी जानकारी मिलाना बहुत जरुरी होता है और इसकी जानकारी इंटरनेट की मदत से जल्दी से जल्दी लोगो तक बड़ी आसानी से पहुंचे जा सकती है ताकि लोग इससे जल्दी से जल्दी आवेंदन कर सके इतना ही नहीं आज कल कोई भी परीक्षा हो तो इसका परिणाम ऑनलाइन ही निकल जाता है।

Disadvantages of internet

जब इंटनेट के कुछ फायदे हैं तो इसके कुछ नुकसान भी हैं और जयादा तर नुकसान इस वजह से होते हैं क्युकी लोग इसका प्रयोग जरूरत से जयादा करने लगते हैं और उस वजह से जायदा तर परेशानिया पैदा होती हैं।

  • समय की बर्बादी

इंटरनेट की सबसे बड़ी परेशानी है समय की बर्बादी जैसे की हमने कहा की इंटरनेट की सबसे बड़ी और मुख्य नुकसान इसका जायदा इस्तेमाल करने की बजह है जैसे आप यदि किसी भी सोशल मीडिया का प्रयोग करते हैं तो करते ही चले जाते हैं आप यदि किसी भी प्रकार का मनोरंजन करते हैं तो आप उसे इतना जयादा कर लेते हैं की आपको समय का पता ही नहीं चल पता इससे आपके समय का तो पता ही नहीं चल पता पर आपका स्वास्थ्य मानसिक और शारीरिक दोनों रूप से आपकी तबियत को ख़राब कर लेते हैं।

  • शोषण, अश्लीलता और हिंसक छवियां

इंटरनेट पर लोग कई प्रकार की बेकार अश्लील फोटो विडिओ साझा करते हैं इनमे कई बार हिंसक वीडियो और फोटो भी होते हैं जो आपको मानसिक रूप से विचलित करते हैं इससे आपकी मनो दशा पर गहरा असर पड़ता है इस तरह की चीज़े बच्चो के दिमाग पे गहरा असर डालती है जो उनकी मानसिक सेहत के लिए ठीक चीज़ नहीं है।

  • पहचान की चोरी

जब आप इंटरनेट का प्रयोग कर रहे होते हैं तो आपकी पहचान चोरी होने और उसका गलत प्रयोग भी इंटरनेट पर हो सकते है इसे आपके सोशल मीडिया या डेटिंग साइट पे इसका गलती प्रयोग हो सकता है इसके साथ साथ बड़ी बड़ी कंपनी आपके जरुरी डाटा जैसे आपकी खूबिया आपकी पसंद नापसंद आप इंटरनेट पे क्या सर्च करते है आप कहा रह रहे हो कहा घूम रहे हो इस तरह की जानकारी वयापा के लिए प्रयोग करके आपको बहुत सारे विज्ञापन दिखये जाते हैं ताकि आप ऑनलाइन कुछ न कुछ खरीदते रहे।

  • हैकिंग और उसमे होनी वाली धोखाधड़ी

हैकिंग ऑनलाइन दुनिया में आम बात है लोगो की जानकारी उनका डाटा इकठा करने के लिए भिन्न प्रकार के वायरस का प्रयोग करते हैं और उनकी जानकारी को इकठा करते हैं जिस वजह से लोगो को काफी जायदा नुकसान हो जाता है और कई बार जानकारी इतनी जाएदा महत्वपूर्ण होती है की आपको उसके बदले में लाखो रूप चुकाने पड़ते हैं।

इससे बचने का के ही उपाए है आपको हमेशा ओरिजनल सॉवरे प्रयोग करने हैं साथ ही किसी भी लिंक पर क्लिक नहीं करना है साथ ही आपको किसी न किसी प्रकार का एंटीवायरस प्रयोग करना है साथ ही आपको ऑनलाइन दुनिया में सावधान रहना है ।

  • गलत जानकारी का लोगो तक पहुंचना

लोग कुछ न कुछ इंटरनेट पर पोस्ट करते रहते हैं इस वज़ह से कभी कभी लोग गुमराह करने के लिए गलत जानकारी इंटरनेट पे फैला देते हैं इसकी बजह से लोगो को सही और गलत जानकारी में अंतर पता कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है लोग इस गलत जानकारी को बार बार शेयर करते हैं और इससे एक गलत खबर आग की तरह फेल जाती है।

Leave a Comment